Breaking News

चरचा रेलवे स्टेशन पर शेड, यात्री प्रतीक्षालय की कमी, लगभग 600 यात्री रोज करते आवागमन

बैकुंठपुर/चरचा

चरचा कॉलरी से ट्रेन का सफर करने वाले यात्रियों को परेशानियों में रहकर यात्रा करनी पड़ती है। ट्रेन लेट हो जाए तो रेलवे स्टेशन पर सेकेंड क्लास और वीआईपी यात्री प्रतीक्षालय समेत पर्याप्त शेड तक की सुविधा नहीं है। एक वीआईपी कक्ष है, जिसका उपयोग मंत्री विधायक ही करते हैं। वहीं बिलासपुर मार्ग की जर्जर हालत के कारण अब राज्य मंत्री, केंद्रीय मंत्री समेत विधायक भी जिले के प्रवास के दौरान ट्रेन से आना-जाना करते हैं। जबकि इस रेलवे स्टेशन से सरगुजा जिले के प्रेमनगर ब्लाॅक, बचरापोड़ी, नगर, बरबसपुर के करीब 600 लोग रायपुर व जबलपुर के लिए ट्रेन पकड़ते हैं। लम्बे समय से यहां पर सेकेंड क्लास और वीआईपी यात्री प्रतीक्षालय की मांग की जा रही है।

जिला मुख्यालय से दस किमी दूर संचालित चरचा रोड के रेलवे स्टेशन पर यात्री प्रतीक्षालय नहीं है, जबकि यहां से बड़े पैमाने पर कोयले का परिवहन होता है और रेलवे को इससे करोड़ों रुपए का राजस्व मिलता है। बावजूद इसके जिले के किसी भी रेलवे स्टेशन में पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध नही कराई जा रही हैं। जिले की बड़ी आबादी एसईसीएल क्षेत्र में रह रही है। सबसे बड़ी बात यह है विभिन्न स्टेट के लोग कालरी में श्रमिक के पद पर कार्य कर रहे है, लेकिन जब वह अपने गांव के लिए रवाना होते हैं, तो उन्हें रेलवे स्टेशन पर असुविधा होती है।

केंद्रीय राज्य मंत्री को भाजयुमो नेता अंचल ने सौंपा ज्ञापन

10 अक्टूबर को 11.30 बजे केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह इंदौर जाने के लिए चरचा रेलवे स्टेशन पहुंची, लेकिन यहां यात्री प्रतीक्षालय नहीं होने के कारण देर रात शेड के नीचे बैठकर ट्रेन का इंतजार करना पड़ा। मंत्री रेणुका सिंह के वहां पहुंचने पर भाजपा समेत संगठन के लोग पहुंचे और मंत्री को रेलवे स्टेशन की समस्याओं की जानकारी दी। दूसरी और रेल्वे स्टेशन बैकुंठपुर रोड चरचा के प्लेटफार्म के विस्तार, सेकेंड क्लास यात्री प्रतीक्षालय, वीआईपी कक्ष एवं यात्रियों के लिए सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की। इस संबंध में भारतीय जनता युवा मोर्चा प्रदेश कार्य समिति सदस्य अंचल राजवाड़े ने केंद्रीय राज्य मंत्री को रेलवे स्टेशन के विस्तार से संबंधित एक ज्ञापन सौंपकर जल्द से जल्द नई सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग की।

24 घंटे में इस स्टेशन से गुजरती हैं 8 सवारी ट्रेन

बता दें कि इस स्टेशन पर 24 घंटे में 8 सवारी ट्रेनों का आवागमन होता है। इस दौरान करीब 6 सौ से अधिक यात्री इस रेलवे स्टेशन से ट्रेन पकड़ते हैं। कोरिया जिले से बिलासपुर के बीच सड़क मार्ग के खराब होने के बाद से अब विधायक, सांसद और मंत्री भी रेलवे के माध्यम से बिलासपुर, रायपुर के लिए इसी रेलवे स्टेशन से यात्रा करते है। समय-समय पर स्टेशन में सर्व सुविधायुक्त यात्री प्रतीक्षालय सुविधा उपलब्ध कराने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि और सामजिक संगठन के लोगों ने मांग की है, लेकिन आज तक उनकी यह मांग पूरी नही हो सकी है। एक ही प्लेटफार्म होने के कारण भी दुर्घटना की संभावना बनी रहती है।

एक साल से कर रहे हैं पत्राचार: अग्रवाल

सोशल वर्कर संजय अग्रवाल ने बताया कि बीते एक साल पहले चरचा रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं को लेकर पत्राचार किया गया था, लेकिन अभी तक उसमें कोई पहल नहीं की गई। बिलासपुर सड़क मार्ग के खराब होने से ट्रेन और रेलवे स्टेशन में भीड़ बढ़ी है, जिसे देखते हुए सुविधाओं को बढ़ाया जाना चाहिए।

कैबिनेट मंत्री राजवाड़े भी कर चुके हैं पहल

जानकारी के अनुसार 2016-17 में तत्कालीन कैबिनेट मंत्री भईया लाल राजवाड़े ने बिलासपुर डीआरएम को कई बार पत्र लिखकर रेलवे स्टेशन में यात्रियों को होने वाली समस्या की जानकारी दी गई थी लेकिन आज तक कोई कार्रवाई और पहल नही की गई।

रेल प्रशासन को यात्रियों की मांगों से कराया अवगत

चरचा रेलवे स्टेशन मास्टर राजीव रंजन कुमार ने बताया कि रेलवे स्टेशन में समस्याओं के निराकरण के लिए यात्रियों ने मांग की है। इस मामले में रेल प्रशासन को अवगत कराया है, उन्हीं को निर्णय लेना है। इस संबंध में कहने के लिए मैं अधिकृत नही हूं।

Check Also

सूरजपुर पुलिस ने चोरी के 1 कार सहित 3 को किया गिरफ्तार…

🔊 Listen to this  जरही-उदित ठाकुर ब्युरो रिपोर्टर सुरजपुर दिनांक 09.10.2020 को चन्द्रमेढ़ा पीपरपारा निवासी …